Pages

Saturday, 22 August 2015

कैलाश मानसरोवर यात्रा ---बारहवाँ दिन :- नवींढांग से लिपुलेख, तकलाकोट

 
लिपुलेख  की ऊँचाई 5334 मीटर (17500 फ़ीट)

कुल रास्ता : - 9 कि.मी  पैदल
समय      : -  5.30 घंटे लगभग 

सुबह डेढ़ बजे चाय आ गयी। ठंड इतनी कि रजाई में से मुँह निकालने का जी न था, पर उठना तो था, सो सभी यात्रियों ने एकदम बिस्तर छोड़ दिया। दैनिकचर्या के साथ तैयार होने लगे। कु.मं. के कर्मचारियों की कर्तव्यपरायणता का तो जबाव ही न था उन्होंने यात्रियों के उठने से पहले ही गर्म पानी कर दिया था। सभी ने गर्म पानी से हाथ-मुंह धोए। 

इनर  से लेकर विंड-चीटर तक पाँच लेअर्स में कपड़े, हाथ-पैरों में डबल गल्व्ज़ और जुराबें, सिर पर मंकी कैप ले ली गई। सभी ने शिव स्तुति की, भोलेनाथ के जयकारे लगाये और अपने दिलो में कैलाश दर्शन लिए ढाई बजे पैदल चलने वालो ने कदम बड़ा दिए। मेरा पोर्टर भी आ गया था। वह अपने साथ आज घोडा ले कर आया मेरे पूछने पर बताया कि ये घोडा उस के चाचा का है।

सभी यात्री एक हाथ में लाठी एवं दूसरे हाथ में बड़ा टार्च लेकर चल रहे है। ऐसा लग रहा है जैसे रात में मशाल जूलूस निकला हो। पूरी यात्रा में बस इसी पल के फोटो नहीं निकाल सका। अंधेरे में माइनस टेम्प्रेचर में  हवा के झोंकों के बीच जूतों और बेंतों की टक-टक, नाक की सूं-सूं सुनसान दर्रे को गुंजित कर रही थी। दूर ऊँचाई पर टॉर्च की रोशनी ऊपर-नीचे चलने के कारण हिलाते हुए आगे बढ़ते तीर्थ-यात्री मानों पैदल स्वर्ग जा रहे हो। :-)
उस दिन जवान और दो डॉक्टर्स मैडिकल-इक्यूपमेंट्स, ऑक्सीज़न-सिलेंडर्स और दो पोर्टेबल- स्ट्रेचर के साथ यात्रियों के बिलकुल साथ-साथ चल रहे थे। किसी को कोई परेशानी न हो हर पल का ध्यान रख रहे थे। बार-बार हाल पूंछते हौंसला बढ़ाते साथ चल रहे थे।
 
चलते-चलते कुछ दूरी पर एक टूटे से चबूतरे के पास हम लोग रुके और पीछे रह गए साथियो का इंतज़ार किया। इतनी देर में घोड़े वाले यात्री भी हमारे साथ आ मिले।  घोड़े पर  बड़ा ही सचेत हो कर बैठना पड़ता था।  रात में घोड़े पर नींद बहुत आती है और गिरने की पूरी सम्भावना होती है। जैसे-जैसे आगे बढ़ते जा रहे थे ठंड और हवा दोनों बढ़ती जा रही थी और सांस फूलने की वजह से रूक-रूककर पैदल चलना कठिन होता जा रहा था। मेरे पोर्टर ने मुझे घोड़े पर बैठने के लिए कहा पर मैंने उसे मना कर दिया लेकिन बॉर्डर से 2 km पहले मुझे घोड़े पर बैठना पड़ा।

हम लिपु बॉर्डर से आधा कि.मी.पहले रुक गए। यही पर हमें पैदल यात्रियों का इंतज़ार करना था। समय काटना कठिन हो रहा था। नींद से आँखे बोझिल हो रही थी। पहाड़ों पर जल्दी दिन निकल आता है। आसपास पौ फटनी शुरु हो गयी। धीरे-धीरे धुंधलका कम होने लगा था। अब सब साफ़ दिखने लगा था। जैसे ही दिन निकला फोटो खींचने शुरू कर दिए गए। पैदल यात्री धीरे धीरे आ रहे थे। धीरे धीरे हम लोगो बॉर्डर की तरफ चलना शुरू किया। 7 बजे तक हम बॉर्डर पर थे। पहाड़ियों पर लगे झंडे सीमा बना रहे थे, वरना पता भी नहीं चल रह था कि कौन सी हद से कौन सा देश शुरु होता है। सब एक सा …मनुष्य सीमा बनाता है पहाड़ और धरती नहीं। सब चीनी अधिकारीयों का इंतज़ार कर रहे थे। सौभाग्य से आज ज़्यादा तेज हवा नहीं थी।

लिपुलेख दर्रा के बारे में 

लिपुलेख ला या लिपुलेख दर्रा हिमालय का एक पहाड़ी दर्रा है जो नेपालके दारचुला जिल्ले को तिब्बत के तकलाकोट (पुरंग) शहर से जोड़ता है। यह प्राचीनकाल से व्यापारियों और तीर्थयात्रियों द्वारा भारत ,नेपालऔर तिब्बत के बीच आने-जाने के लिये प्रयोग किया जा रहा है। यह दर्रा भारत से कैलाश पर्वत व मानसरोवर जाने वाले यात्रियों द्वारा विशेष रूप से इस्तेमाल होता है। 

सीमा पर जवानों का जमावड़ा था। हमारी ओर हमारे सशस्त्र जवान जमे हुए थे। हम वही पत्थर की शिलाओं पर बड़ी मुश्किल से संतुलन बनाकर बैठ गए।  हमारे साथ चल रहे पोनी एवं पोर्टर यही पर रूक गये। उन्हे उन की पेमेंट का आधा  भुगतान किया  गया एवं यात्रा से वापसी पर पुनः आने को कहकर मैंने अपने पोर्टर से बैग ले लिया। तिब्बत की सीमा रेखा के अंदर जाने तक आईटीबीपी के जवान हमारे साथ थे। चीनी अधिकारी ऊपर नहीं आये। हम लोगो ने अब बॉर्डर पार कर चीन -अधिकृत तिब्बत में प्रवेश किया। जब तक हम सब तिब्बत की सीमा में प्रवेश किए वे सब वहीं खड़े किसी न किसी रुप में हम सब की मदद करते रहे। हमें भी उनसे विदा लेना द्रवित कर रहा था। हम सब उनके प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट करते हुए यात्रा पूरी करके पुनः मिलने की इच्छा लिए आगे बढ गए। वे भी भावभिवोर होकर हाथ हिलाते हुए विदा कर रहे थे …  जब हम सीमा क्रॉस कर रहे थे तो कुछ जवान कहते सुने गए ’अब हम याद आएँगे।’ सच जैसे ही सीमा छोड़ी अपने को अकेला महसूस किया। न सिपाही थे न पोनी-पोर्टर। कोई मददगार नहीं। कोई राह दिखाने वाला नहीं।
 
चीनी सीमा में यात्रा एकदम ढ़लान वाला है। रास्ता पूर्णताः पथरीला हैं, पेड़-पौधे आदि का नामो निशान नही है। बंजर पथरीला संकरा ढ़लान है, चीन साइड में बर्फ थी। बर्फ पर चलना काफी मुश्किल होता है। यात्रियों के पैर स्लिप हो रहे थे। मैंने बड़ी मुश्किल से उस  चीन साइड के बर्फीले रास्ते और ग्लेशियर को पार किया। ग्लेशियर पार करते ही वहाँ पर जीप खड़ी थी। जो यात्रियों को बैठा कर 3 km नीचे हमारी बस तक पहुँचाने के लिए खड़े थे। लेकिन मैंने , एल.ओ साहिब और छैना राम जी ने वो तीन km पैदल पार कर किये।  

सभी यात्री भोले की जय बोलते हुए फिसलते-लुड़कते हुए  चलकर जहाँ हमें लेने आयी बस खड़ी थी वहाँ पहुंचे, वहाँ चीनी अधिकारी मौजूद थे चीनी अधिकारी अपनी लिस्ट से एक एक का नाम बोलकर बुला रहे थे और नाम और पासपोर्ट के साथ चेहरा चहेरे को मिला कर टिक कर रहे थे। सामान्यतय यह प्रक्रिया ऊपर लिपु बॉर्डर पर होती है। यही पर हमारे गाइड 
 जिसका नाम गुरु था ने अपनी सहयोगी डिक्की  का परिचय दिया और बताया कि हम कस्टम-चैकिंग के लिए जा रहे थे। यात्री-गणना के पश्चात बस चल पड़ी।

हम लोग बस से चीन के निकटम शहर तकलाकोट (पुरंग) के लिए रवाना हुए, मिट्टी के पहाड़ी-पठारी-मार्ग पर चढती उतरती धूल उड़ाती बस में बैठकर सुबह से थका शरीर बहुत कष्ट महसूस कर रहा था। 
बस बॉर्डर के मिलट्री-एरिया से गुज़र रही थी सो गुरु ने फोटो बिलकुल न लेने और कैमरे बंद रखने की हिदायत दी। बस बॉर्डर के मिलट्री-एरिया से गुजरते हुए तकलाकोट में प्रवेश किये। बस तकलाकोट के कस्ट्म ऑफ़िस में दाख़िल हुयी हम सभी उतर कर कस्टम ऑफिस में अंदर गए। हमने इमीग्रेशन फार्म भरा, फिर लाइन में लगकर अंदर गए जहाँ सामने दीवार पर इन्फ़्रा-रेड कैमरा लगा था, सभी का टेंप्रेचर रिकॉर्ड हो रहा था। बैल्ट-पाऊच और हैंडबैग्स भी एक्सरे मशीन से गुजारे और सारी औपचारिकताएं पूर्ण करते हुए हम बस में आ कर बैठ गए।

पुनः बस में बैठकर तकलाकोट शहर में पुरंग गेस्ट-हाऊस की ओर चल पड़े। यहाँ नए और पुराने ब्लॉक में यात्रियों को रुकाया गया था। नया ब्लॉक कही ज़्यादा बेहतर था, हमे पुराना ब्लॉक मिला पुराना ब्लॉक ज़्यादा साफ़ नहीं था। परन्तु टीवी, गीज़र लगा हुआ था। हमारा सामान भी आ गया था। उसे उठा कर अपने कमरे में लाये और किसी तरह फ्रेश और स्नान कर के हम लोग तैयार हुए तो खाने का समय हो गया। 

हम लोग भोजन-कक्ष में पहुँच गए। बड़ा सा हॉल जिसमें सात बड़ी गोल मेज लगीं थीं और चारों ओर कुर्सियाँ लगीं थी। सामने किचन का दरवाज़ा था। जहाँ एक मेज पर उबले चावल और बंदगोभी गाजर की सब्जी, और भी एक २ सब्जिया थी। पास में ही खाली बाऊल, प्लेटें और चम्मच थे। भोजन सामान्य और ठीक था, चीन साइड में जो उम्मीद की थे उस से ज़्यादा ही था। भोजन से पहले हमारे गाइड गुरु  ने हमें आगे की यात्रा के बारे में बताया। कुछ यात्रियों ने गुरु की बातों को अनसुना सा कर दिया। हमें 801 डॉलर चीन सरकार को देने थे। फाइनेंस कमेटी के पास सभी ने डॉलर जमा करवा दिए। जिन यात्रियों पास चीन करेंसी युआन नहीं थी, उस के लिए गुरु ने अगले दिन सुबह बैंक चलने के लिए बोला।  

खाना खा कर थोड़ा आराम कर के मार्किट घूमने चले गए शाम हो गयी थी। 

  
 
इस यात्रा को आरम्भ से पढने के लिये यहाँ क्लिक करें। 
 

 
 



लिपुलेख से 1 km पहले 


लिपुलेख से 1 km पहले 


लिपुलेख से 1 km पहले 







मैं और मेरा पोर्टर 








कोचर जी और वर्मा जी 


लिपुलेख से शानदार नजारा 


बॉर्डर, बाईं तरफ भारत दाईं तरफ चीन 


बॉर्डर पार कर के ग्लेशियर पार करते हुए 


बॉर्डर पार कर के ग्लेशियर पार करते हुए 


दूर हमारी बस खड़ी हुई और पैदल जाते हुए यात्री 


तकलाकोट में हमारा होटल 


 

 

7 comments:

  1. पुरे दिन सारी पोस्ट बड़े चाव से पढ़ी बड़ी शानदार है

    अगली पोस्ट की प्रतीक्षा ....

    जय भोलेनाथ

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद राकेश जी यात्रा की सराहना के लिए।

    ReplyDelete
  3. बार्डर का मजा एक पैर इधर तो भारत दूसरा उधर तो चीन

    ReplyDelete
  4. सुशील जी,
    आज सारा दिन बैठकर एकसाथ आपकी सारी पोस्ट्स पढ़ रहा हूँ, और आज सारी समाप्त करके ही छोड़ूँगा.. बहुत सुंदर लेखन, बहुत सुंदर फोटोग्रॅफ्स. आप महान हैं, आपको नमन. मैं भी यात्रा ब्लॉग लिखता हूँ और घुमक्कड़.कॉम पर भी लिखता हूँ. www.mukeshbhalse.blogspot.in and www.ghumakkar.com/author/mukesh-bhalse

    Thanks.

    Mukesh Bhalse

    ReplyDelete

  5. मुकेश जी ये तो आप का प्यार है जो आप मुझे महान कह रहे हैं। भोले शंकर की कृपा से एक छोटी सी कोशिश की है लिखने की। मैंने आप का ब्लॉग देखा आप सब लोगों के सामने लिखने में मैं कुछ भी नहीं।

    ReplyDelete
  6. ​​इन सुन्दर नजारों की जितनी ट्राईफ करी जाए कम है ! कठिनाइयां सहन कर भगवन आशुतोष के निवास स्थल तक पहुंचना ही अपने आप में बहुत बड़ा कार्य सिद्ध हो जाता है सुशील जी ! 801 डॉलर प्रति व्यक्ति ?

    ReplyDelete
  7. हाँ जी योगी जी चीन सरकार वहाँ पर रहने का, बस का, हम से 801 US डॉलर प्रति यात्री लेती है।

    ReplyDelete